किसानों के लिए खुशखबरी! मोदी सरकार ने शुरू की नई गेंहू खरीद योजना – जानिए समर्थन मूल्य और ऑनलाइन पंजीकरण का तरीका

किसानों के लिए खुशखबरी! मोदी सरकार ने शुरू की नई गेंहू खरीद योजना – जानिए समर्थन मूल्य और ऑनलाइन पंजीकरण का तरीका

समर्थन मूल्य पर गेहूं को बेचने के लिए किसानों के ऑनलाइन पंजीकरण शुरू

गेंहू खरीद योजना
गेंहू खरीद योजना

मोदी सरकार ने गेंहू खरीदने के लिए नयी योजना शुरू की है इस योजना के तहत किसानो को ज्यादा से ज्यादा लाभ देना है और जल्द से जल्द गेंहू की खरीदारी करनी है |

आप सभी को पता ही होगा की पुरे विश्व में कोरोना वायरस तेजी से फ़ैल रहा है जिसको कारण पुरे विश्व में 1 लाख से ज्यादा लोगो को जान जा चुकी है और अभी तक इस कोरोना वायरस की दवाई नहीं बनाई गयी है जिसके कारण पुरे विश्व में लॉकडाउन किया गया है जो हमारे भारत में भी लागु किया है जो 3 मई तक लागु कर दिया गया है |

भारत के अलावा अन्य देशो में लॉकडाउन करने के कारण वंहा पर भुखमरी की स्थिति पैदा हो गयी क्योंकी वंहा पर अनाज की कमी हो गयी है जिसके कारण उन देशो ने भारत से मदद  मांगी है अनाज देने के लिए क्यों भारत विश्व में सबसे ज्यादा गेंहू का उत्पादन करता है जिसके कारण पुरे विश्व में गेंहू की मांग तेजी बढ़ रही है और वो सभी देश भारत से मदद मांग रहे है जिसके देखते हुए मोदी सरकार ने गेंहू खरीद योजना को शुरू किया गया है इस योजना के तहत किसानो से ऊंच दर पर गेंहू खरीदी की जाएगी मतलब किसानो को गेंहू का भाव ज्यादा से ज्यादा दिया जायेगा जिससे किसानो को भी ज्यादा से ज्यादा लाभ मिलेगा ताकि लॉकडाउन के कारण जो किसानो का नुकसान हुआ उसकी भरपाई की जा सके और उसके बाद भारत अन्य देशो को गेंहू निर्यात करेगा वो भी ऊंच दामों में जिससे भारत को ज्यादा से ज्यादा लाभ मिलेगा |

गेंहू खरीद करने के लिए क्या क्या योजनाए बनाई है :-

लॉकडाउन के दौरान किसानो को हुए नुकसान से जल्द से जल्द उभारने के लिए गेंहू खरीद की प्रक्रिया जल्द से जल्द करना चाहती है केंद्र सरकार ताकि किसानो के हाथ में जल्द से जल्द कुछ नगदी आ सके और वो अपने जरूरत का समान खरीद सके |

इसलिए जंहा पर गेंहू की ज्यादा पैदावार है वंहा पर गेंहू खरदने के लिए 238 अतिरिक्त गेंहू खरीद केंद्र बनाये जायेंगे और यह केंद्र मंदिरो की खाली पड़ी जगह के साथ साथ सेक्टरों में खाली पार्किंगों की जगह पर बनाये जायेंगे और इन जगह का चुनाव करने का पीछे एक कारण यह भी है की यहाँ पक्की जगह के साथ साथ किसानो और मजदूरों के शौचालयों व पीने के पानी के भी इंतजाम पहले से ही मौजूद हैं।

इससे पहले यहाँ पर अनाज खरीद की प्रक्रिया 22 अनाज मंडिया और खरीद केन्द्रो पर ही किया जाता रहा है |

गेंहू खरीदने के लिए किसानो के गांवो के आस पास ही अनाज खरीदने के केंद्र खोले जायेंगे  :-

लॉकडाउन के कारण किसानो को अपने गांवो से दूर जाकर गेंहू नहीं बेचना पड़े इसके लिए मोदी सरकार ने फैसला किया है गेंहू की खरीद करने के लिए किसानो के गांवो के आस पास ही गेंहू खरीद करने के लिए केंद्र खोले जायेंगे और वंहा के ही आस पास से आढ़ती ही मजदुर लिए जायेंगे |

इसके अलावा गेहूं को खरीदने के लिए मार्केट कमेटी ने बनाए 50 खरीद केंद्र :-

मोदी सरकार ने किसानो को हर सम्भव मदद देना का भरोसा दिया है जिसको देखते हुए मार्किट कमेटी ने अनाज मंडियों सहित 50 खरीद केंद्र खोले गए है जिसके कारण किसानो को ज्यादा दूरी तक अपनी फसल बेचने के लिए आना नहीं पड़ेगा और लॉकडाउन को देखते हुए भीड़ भी कम की जा सकेगी |

खरीद केंद्र के लिए सरकारी स्कूल और राइस मिल को शामिल किया गया है इन सभी जगह पर खरीद करने के लिए  माकूल प्रबंध किए जा रहा है आढ़तियों को भी अलग अलग खरीद केंद्र पर बांटे जा रहे है इस बार प्रशासन का प्रयास है की ज्यादा से ज्यादा गेंहू की खरीद की जा सके क्योंकी इस बार अन्तराष्ट्रीय बाज़ारो में गेंहू की ज्यादा मांग है और साथ में सोशल डिस्टेंस का भी पूरा ध्यान रखा जाएगा |

15 अप्रैल से खुलेगी अनाज मंडी :-

सरसों की फसल की खरीद करने के लिए 15 अप्रैल से अनाज मंडिया को खोलने के आदेश दिए गये है| 20 अप्रैल से गेंहू की खरीद की जा सकेगी और इससे पहले किसी को अनाज लाने की अनुमति नही दी गयी है इसलिए अधिकारियो के द्वारा पैनी नज़र लगाये हुए है ताकी किसान समय से पहले अनाज यहाँ नही लाये |

Share this post:

Leave a Comment