पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ गलत जानकारी देकर उठाया तो होगी करवाई

PM Kisan Samman Nidhi Yojna का गलत जानकारी देकर उठाया फायदा तो होगी ये बड़ी कार्रवाई

PM Kisan Samman Nidhi Yojna Ka Galat Tarike Se Labh

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत सरकार लाभार्थी किसान के खाते में सालाना 6000 रुपए जमा करती है।

मोदी सरकार ने देश के गरीब किसानो को कुछ आर्थिक मदद देने के लिए प्रधानमन्त्री किसान सम्मान निधि योजना की घोषणा की है इस योजना के तहत देश के सभी किसानो को हर साल 6 हजार रूपये की आर्थिक मदद दी जाती है जो 2000-2000 रूपये की तीन किस्तों के रूप में दिए जाते है ।  

इस योजना का लाभ देश के करीब 14।5 करोड़ किसानो को देने का लक्ष्य रखा गया है जिसमे से अभी तक 9 करोड़ किसानो ने रजिस्टर करवाया है और बहुत से किसान ऐसे भी है जो इस योजना से बाहर है क्योंकी वो किसान सरकार द्वारा बनाया गये नियम के अंतर्गत नही आते है ।

ऐसे में अगर कोई किसान इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन करना चाहते है तो उससे पहले कुछ शर्ते है जो जानना बहुत ही जरूरी है क्योंकी अगर कोई किसान गलत जानकारी देकर इस योजना का लाभ लेता है तो उसके खिलाफ कानूनी करवाई की जाएगी ।

कौन कौन किसान इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते है ?

1 – ऐसे किसान जो पहले या वर्तमान में किसी संवैधानिक पद पर रह चुके है उन किसानो को इस योजना का लाभ नहीं दिया जायेगा ।

2 – अगर कोई किसान खेती की जमीन को किसी अन्य काम में उपयोग में लेता है तो वो किसान इस योजना का लाभ नहीं उठा सकता है ।

3 – केंद्र या राज्य सरकार में अधिकारी इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते है ।

4 – डी ग्रुप वालो को छोड़कर और बाकि 10 हज़ार से अधिक पेंशन पाने वाले किसान भी इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते है ।

5 – चार्टर्ड अकाउंटेंट, इंजीनियर, डॉक्टर, वकील, साइंटिस्ट, आर्किटेक्चर अगर कही पर खेती करते है तो इन लोगो को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा ।

6 – जिन्होंने पिछले साल इनकम टैक्स भरा था या वर्तमान में इनकम टैक्स भर रहे है ऐसे किसानो को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा ।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत बैंक अकाउंट में भेजी गयी राशि वापस ली जाएगी

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की ऑफिसियल वेबसाइट के अनुसार अगर कोई किसान गलत जानकारी देकर पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ उठाता है लेकिन बाद में वो पकड़ा जाता है तो ऐसी स्थिति में सबसे पहले सरकार के द्वारा भेजे गए पैसे सरकार वापिस ले लेती है और उसके बाद उस किसान को धोखाधड़ी के मामले में कानूनी करवाई का भी सामना करना पड़ेगा ।

Share this post:

Leave a Comment