इस मोदी योजना से लॉकडाउन मिलेगा रोजगार – जानें बड़ी खबर

मोदी सरकार लॉकडाउन के बीच में इस योजना से दे रही है रोजगार, सरकार की इस स्कीम से मिलेगा 3.75 लाख की मदद, ग्रामीण स्वायल टेस्टिंग लैब लगाकर कमा सकते हैं पैसा, जानें कहां संपर्क करना होगा, कितना पैसा मिलेगा और क्या योग्यता होनी चाहिए

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना
इस मोदी योजना से लॉकडाउन मिलेगा रोजगार – जानें बड़ी खबर

लॉकडाउन के कारण लाखो युवा अपने घरो पर लौट रहे है क्योंकी सभी उधोग धंदे बंद बड़े है। जिसके कारण लोगो को रोजगार मिलना बंद हो गया है। इसलिए मोदी सरकार ने ग्रामीण क्षेत्र में निवास करने वाले युवको को रोजगार देने के लिए 3.75 लाख रूपये का अनुदान दे रही है।

इस मोदी योजना से लॉकडाउन मिलेगा रोजगार – जानें बड़ी खबर

सरकार करेगी 3.75 लाख रुपये की मदद

भारत में पहले से ही स्वायल हेल्थ कार्ड बनाने की योजना (Soil Health Card Scheme)

चल रही है। इस कार्ड को जारी करने के लिए सबसे पहले स्वायल टेस्टिंग लैब में किसानो के खेत की मिटटी की जाँच करके उसके बारे में जानकारी दी जाती है की उसकी खेत की मिटटी कैसी है मिटटी में कौनसे पोषक तत्व की कमी और अधिकता है। जिससे किसानो को पता चल सके की किसानो को अपने खेत में कौनसे फसल की खेती करनी है, कितनी मात्रा में खाद डालनी है। ताकि किसान को नुकसान कम से कम हो और ज्यादा से ज्यादा फसल का उत्पादन हो इस प्रकार की बहुत सारी जानकारी इस कार्ड में दी जाती है जो किसानो को जारी किये जाते है।

पीएम किसान योजना छठी किस्त अगस्त में आएगी – PM Kisan 6th Kist

हमारे देश भर में करीब 6.5 लाख गांव हैं जंहा पर अभी तक केंद्रीय कृषि मंत्रालय (Agriculture Ministry) के द्वारा 10,845 प्रयोगशालाएं मंजूर किये गए है। जिसमे से अभी तक सिर्फ 7949 स्वायल टेस्टिंग लैब स्थापित किये गए है जो 82 गांवों पर एक लैब है।

इसलिए किसानो को मदद करने के लिए फ़िलहाल 2 लाख से ज्यादा लैब खोलने की जरूरत है ऊपर से लॉकडाउन भी है। जिसके कारण रोजगार मिलना मुश्किल हो गए है ऐसे में अगर आप रोजगार प्राप्त करना चाहते है तो आप स्वायल टेस्टिंग लैब खोल सकते है। इसके लिए सरकार के द्वारा 3.75 लाख रूपये की आर्थिक सहायता भी दी जा रही है।

स्वायल टेस्टिंग लैब खोलने के लिए 5 लाख रूपये का खर्च आता है जिसमे से 75 % प्रतिशत अनुदान सरकार की तरफ से दिया जायेगा।

आत्मनिर्भर भारत अभियान योजना 2020 – मिलेंगे ये 10 बड़े लाभ

मृदा स्वास्थ्य कार्ड के लाभ

  • इस योजना के द्वारा किसानो को उनकी जमीन के बारे में सही सही जानकारी मिल जाएगी जिससे किसान अपनी मर्जी के हिसाब से फसल / अनाज का उत्पादन कर सकते है ।
  • ये मृदा स्वास्थ्य कार्ड हर तीन वर्ष से अपडेट करके दिया जाता है जिससे किसानो को अपने खेत की मिटटी में बीच बीच में क्या क्या परिवर्तन हुए पता चलता रहेगा ।
  • इस योजना के द्वारा किसानो की फसल अच्छी होगी जिससे किसानो और देश को लाभ मिलेगा ।
  • इस योजना के द्वारा किसान आगे बढ़ेगा और किसान उन्नति की ओर बढ़ेगा जिससे देश तरक्की करेगा ।
  • किसानों की मदद के लिए नया ऐप लांच – बागवान मित्र मोबाइल एप्लीकेशन डाउनलोड

स्वायल टेस्टिंग लैब में करना क्या होगा

इस लैब में किसानो के खेत की मिटटी के नमूने लेकर जाँच की जाएगी जो हर दो साल से करनी होती है। जिसमे ये जाँच की जाती है की किसान के खेत की मिटटी कितनी उपजाऊ है और खेती की मिटटी में कौनसे पोषक तत्व की कमी है। ताकि पोषक तत्व कमी होने पर उनमे सुधार करने के लिए कौनसी कीटनाशक या खाद का छिड़काव कितनी मात्रा में करना है व कौनसी फसल की खेती करनी है। इस प्रकार की मिटटी से सबंधित सारी जानकारी इस कार्ड में दी जाती है  उसके बाद किसान को स्वायल हेल्थ कार्ड जारी करना होता है।

लैब शुरू करने के लिए कौनसे कौनसे उपकरण की खरीद करनी होगी:-

स्वायल टेस्टिंग लैब कौन कौन खोल सकता है :-

  • स्वायल टेस्टिंग लैब खोलने के लिए आवेदन कर्ता एग्री क्लिनिक, कृषि उद्यमी प्रशिक्षण से कोई डिग्री या कोर्स किया हुआ होना चाइये।
  • इसके अलावा कक्षा 12 th विज्ञान विषय से की हो वो ही व्यक्ति इस योजना के अंतर्गत लैब खोलने के लिए अनुमति प्राप्त कर सकता है।
  • स्वायल टेस्टिंग लैब खोलने के लिए आवेदन कर्ता की उम्र 18 से 40 वर्ष के बीच होनी चाइये।
  • स्वायल टेस्टिंग लैब खोलने के लिए आवेदन ग्रामीण क्षेत्र से निवास करने वाला व्यक्ति ही आवेदन कर सकता है।

स्वायल टेस्टिंग लैब को शुरू करने के लिए आवेदन कहा करे

  • अगर कोई युवक लैब खोलने के लिए इच्छुक है तो उसके लिए आप अपने नजदीकी कृषि उपनिदेशक, संयुक्त निदेशक के कार्यलय में जाकर आवेदन कर सकते है।
  • इसके अलावा आप इस योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर agricoop.nic.in या soilhealth.dac.gov.in जाकर आवेदन कर सकते है।
  • इस योजना से सबंधित ज्यादा डिटेल में जानकारी प्राप्त करने के लिए सरकार के द्वारा जारी किसान कॉल सेंटर 1800-180-1551 पर कॉल कर सकते है
PM Kisan Beneficiary Status 2020Click
इन किसानों को नहीं मिलेगा PM किसान योजना का लाभClick
पीएम किसान हेल्पलाइन नंबरClick
500 रूपये दूसरी किस्त आयी है या नहीं ऐसे चैक करेंClick
PM Kisan Rejected List 2020Click

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *